Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraआखिरकार गिरफ्त में आ ही गया सोने का लुटेरा

आखिरकार गिरफ्त में आ ही गया सोने का लुटेरा

=मणप्पुरम गोल्ड फाइनेंस से लूटा था 19 किलो सोना
=कमलानगर में दिनदहाड़े दिया था वारदात को अंजाम
=गैंग के दो सदस्य मुठभेड़ में हो चुके ढेर 14 को हुई जेल

दर्पण व्यू
आगरा। 17 जुलाई को दिनदहाडे कमला नगर क्षेत्र की मणप्पुरम गोल्ड लोन कंपनी की शाखा में नरेद्र उर्फ लाला ने 19 किलो सोने के साथ कैश लूट की वारदात को अंजाम देकर सनसनी फैलाने वाले सरगना की आखिरकार गिरफ्तारी हो ही गई। वारदात के बाद पुलिस ने गैंग के सरगना पर एक लाख का इनाम घोषित किया था। वारदात को अंजाम देकर वह फरार हो गया था पुलिस ने उसे गिरफ्त में लेने के लिए कई स्थानों पर दबिश दी परंतु नाकाम रही। जबकि उसके दो साथी पुलिस मुठभेड़ में ढेर हो गए और इस मामले में महिला समेत 14 को पुलिस जेल भेज चुकी है। बताया जा रहा है कि नरेंद्र कोलकाता सोनपुर थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मुखबिर की सूचना के बाद नरेंद्र लाला, उसके भाई अरुण और मां राजकुमारी को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तारी की सूचना आगरा पुलिस को दी गई है। आगरा पुलिस अब नरेंद्र लाला को ट्रांजिट रिमांड पर आगरा लेकर आएगी। उम्मीद है कि शनिवार तक नरेंद्र आगरा आ जाएगा।
कमला नगर में मणप्पुरम गोल्ड लोन कंपनी की शाखा में 17 जुलाई को दिनदहाडे डकैती पडी थी। जिसे फिरोजाबाद के हिस्ट्रीशीटर नरेंद्र उर्फ लाला ने साथियों के साथ मिलकर शाखा से 19 किलोग्राम से अधिक सोना और कैश लूट लिया था। वारदात के बाद गैंग के दो सदस्य मनीष और निर्दोष एत्मादपुर में मुठभेड़ में ढेर हो गए थे। इसके बाद पुलिस ने एक-एक करके 14 लोगों को इस मामले में जेल भेज दिया। गैंग का सरगना नरेंद्र उर्फ लाला पुलिस के हाथ नहीं आया। उस तक पहुंचने के पुलिस ने रिश्तेदार और करीबियों को भी पकड़कर जेल भेजा। सात माह से पुलिस नरेंद्र की तलाश में दिल्ली, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, के अलावा फिरोजाबाद, मैनपुरी, गाजियाबाद व नोएडा समेत एक दर्जन से ज्यादा शहरों की खाक छान चुकी है। पुलिस को नरेंद्र उर्फ लाला के ओडिशा में होने की जानकारी मिली थी। पुलिस की टीम उसकी गिरफ्तारी को वहां पहुंची, लेकिन उससे पहले ही वह वहां से फरार हो गया। वह साढ़े चार किलोग्राम सोने को लेकर कहां फरारी काट रहा था।

दो मुठभेड़ में मारे दो गिरफ्तार
डकैती के बाद पुलिस ने मनीष व निर्दोष को पुलिस ने मुठभेड में ढेर किया था। उनके पास से 7.5 किलो सोना और आभूषण बरामद किए थे। 23 जुलाई को संतोष जाटव को मुठभेड के बाद गिरफ्तार कर लगभग एक किलो सोने के आभूषण बरामद किए थे। दो अगस्त को पुलिस ने इनामी रेनू पंडित को मुठभेड के बाद गिरफ्तार किया था।

प्रभात ने किया समर्पण
21 जुलाई 2021 को डर के कारण आरोपी प्रभात ने थाने में समर्पण किया था। 27 जुलाई को अंशु सोलंकी और सहयोगी अंशु यादव उर्फ ध्रुव व संजय शर्मा को गिरफ्तार किया था। तीन अगस्त को सुनीता और राजा को गिरफ्तार किया गया। चार अगस्त को आकाश मिश्रा और अश्वनी मिश्रा को गिरफ्तार किया गया। 10 अगस्त को देर रात देवेंद्र यादव, दीपू, मनोज और सचिन को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments