Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraफतेहपुर सीकरी में दो झोलाछाप डाक्टरों की दुकानें सील की गईं

फतेहपुर सीकरी में दो झोलाछाप डाक्टरों की दुकानें सील की गईं

स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई से दवा विक्रेताओं में मचा हड़कंप
छापा, टीमों ने किया कई क्लीनिक व अस्पतालों का निरीक्षण
देहात में ताबड़तोड़ कार्रवाई, अवैध मेडिकल स्टोर निशाने पर

आगरा। स्वास्थ्य विभाग ने फतेहपुर सीकरी में दो झोलाछाप की दुकानें सील कर दिया है। अभद्रता करने पर एक के खिलाफ थाने में तहरीर दी गई है। पिनाहट में बिना पंजीकरण के जय मां हॉस्पिटल संचालित होता मिला, यहां टीम को एक्सपायर्ड दवाएं भी मिलीं। न्यू जय हॉस्पिटल के बेसमेंट में अवैध मेडिकल स्टोर पाया गया। बाह में 5 में से 3 अस्पताल बेसमेंट में संचालित मिले, एक अवैध पाया गया। वहीं एत्मादपुर में अग्निशमन उपाय नहीं पाए गए। टीमों ने अब तक 62 अस्पताल बेसमेंट में संचालित होते पाए हैं। डॉ. पीयूष अग्रवाल ने बताया कि फतेहपुर सीकरी में ग्वालियर गेट के बाहर स्थित झोलाछाप की दुकान में मरीज भर्ती मिले। इसे अस्पताल की तरह संचालित किया जा रहा था। मेडिकल स्टोर और एक्सरे मशीन मिलीं। संचालक कोई भी प्रपत्र नहीं दिखा सका, इसे सील कर दिया गया। पास में ही एक घर में झोलाछाप मरीजों का इलाज कर रही थी। छापे की सूचना पर वह मरीज को साथ लेकर भाग गई। घर में ही कई बेड पड़े मिले, प्रसव कराने के उपकरण भी मिले, उसे भी सील कर दिया गया। वहीं कार्रवाई के बाद एक झोलाछाप सीएचसी पर पहुंचा और वहां मौजूद कर्मियों से अभद्रता की और धमकाया। इस घटना की तहरीर थाने में दी गई है। पिनाहट कस्बे में टीम को जय मां हॉस्पिटल अवैध रूप से संचालित मिला। पंजीकरण नहीं था। यहां एक्सपायर्ड दवाएं भी मिलीं। संचालक भाग निकला। न्यू जय हॉस्पिटल में बेसमेंट में अवैध तरीके से मेडिकल स्टोर चलाया जा रहा था। ओम हॉस्पिटल में बायोमेडिकल वेस्ट के निस्तारण का इंतजाम नहीं था। सीएचसी केंद्र प्रभारी पिनाहट डॉ. विजय कुमार ने बताया कि रिपोर्ट सीएमओ को भेजी है। बाह में टीम ने 5 अस्पतालों का निरीक्षण किया। जरार में ओम हॉस्पिटल, बाह में न्यू प्रज्ञा हॉस्पिटल बिना पंजीकरण के बेसमेंट में चलते मिले। धोबई में श्रीश्याम हॉस्पीटल भी बेसमेंट में चल रहा था। आग से बचाव के इंतजाम नहीं थे। धोबई में गुरु गोरखनाथ अस्पताल भी पंजीकृत नहीं है। अधीक्षक डॉ. जितेंद्र वर्मा ने बताया कि बाह के डॉ. खुशी और डॉ. सुनीता गुप्ता के हॉस्पिटल रजिस्टर्ड थे, लेकिन मानक पूरे नहीं मिले। सीएमओ को रिपोर्ट भेजी है।
फतेहाबाद में टीम ने दो होम्योपैथिक क्लीनिक, तीन अस्पतालों की जांच की। जेपीएस हॉस्पिटल, लाइफ लाइन हॉस्पिटल, श्रीराम पॉली क्लीनिक, चरक क्लीनिक व कृष्णा हॉस्पिटल का निरीक्षण किया गया। अधीक्षक डॉ. बीके सोनी के नेतृत्व में टीम में डॉ. प्रमोद कुशवाहा, राजेश कुमार आदि रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments