Thursday, June 13, 2024
HomeUttar PradeshAgraपुण्य कर्म ही मोक्ष प्राप्ति का एकमात्र साधन -भागवताचार्य संवाद

पुण्य कर्म ही मोक्ष प्राप्ति का एकमात्र साधन -भागवताचार्य संवाद

फतेहाबाद । लक्ष्मी नारायण धाम फतेहाबाद में स्वामी चिन्मयानंद महाराज के सानिध्य में चल रही भागवत कथा में भागवताचार्य बाल सुख अर्पित कृष्ण ने नौवें दिन कहा कि इस कलयुग में पुण्य कर्म करने से ही मोक्ष मुक्ति मिल सकती है। भागवत के महत्व के बारे में भागवताचार्य बाल सुख अर्पित महाराज ने कहा कि ऋषि मुनियों की परंपराओं एवं शास्त्रों में वर्णित तथ्यों का पालन करते हुए संस्कारवान समाज की कल्पना की जा सकती है । श्रीमद् भागवत कथा को सुनने मात्र से ही बड़े-बड़े पाप कट जाते हैं । पापियों की मनोदशा सुधारने वाला ग्रंथ श्रीमद्भागवत महापुराण हैं । उन्होंने गुरुकुलीय परंपरा पर भी प्रकाश डाला । गौ सेवा की महत्वता बताई । उन्होंने बताया यदि कोई व्यक्ति यदि किसी भयंकर पाप से भी छुटकारा पाना चाहता है तो शास्त्रों की शरण में आने से उसके बुरे कार्य सात्विक हो जाते हैं । कलयुग में मनुष्य को पुण्य कर्म करने से ही मोक्ष मुक्ति मिल सकती है । भागवताचार्य ने भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं के साथ-साथ गोवर्धन पूजा की कथा का वर्णन किया। इस अवसर पर सैकड़ों की संख्या में श्रोता मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments