Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraराहत : अगवा किया गया मासूम वृंदावन में मिला

राहत : अगवा किया गया मासूम वृंदावन में मिला

सोशल मीडिया की मदद से मचंक के अपहरणकर्ता तक पहुंची पुलिस
आजमपाड़ा (शाहगंज) में रिश्तेदार के यहां आया हुआ था अपहरण का आरोपी
24 घंटे में ही किया सनसनीखेज घटना का खुलासा, परिजन दे रहे दुआएं

आगरा। दौरेठा (शाहगंज) से अगवा मासूम को पुलिस ने बुधवार की आधी रात को मथुरा के वृंदावन इलाके से सकुशल बरामद कर लिया। पुलिस को इंटरनेट मीडिया की मदद से अपहर्ता का सुराग मिला। जिसके आधार पर बुधवार की देर रात संदिग्ध को पकड़ लिया। उससे सख्ती से पूछताछ करने पर आधी रात को मासूम को अगवा करने की बात स्वीकार की। बताया कि मासूम को मथुरा के वृंदावन में एक घर में छोड़कर आया है। अपहर्ता की निशानदेही पर पुलिस ने वृंदावन में दबिश देकर मासूम को बरामद कर लिया। बच्चे के मिलने की खबर मिलते ही परिवार में खुशी की लहर दौड़ गई। मां मिथिलेश और दादी कांता देवी की आंखें खुशी से छलक उठी। शाहगंज के मुरली विहार स्थित सत्यम नगर निवासी जय प्रकाश की परचून की दुकान है। वह अपनी मां कांता देवी के साथ मंगलवार को दौरेठा नंबर दो अपनी ननिहाल आए थे। जय प्रकाश के साथ उनकी पत्नी मिथिलेश व दोनों बच्चों निशांत एवं मयंक भी थे। मंगलवार की शाम को एक युवक घर के बाहर खेलते मयंक का अपहरण कर ले गया था। बच्चे को तलाश करते हुए परिजनों ने सीसीटीवी खंगाले तो अपहरण का पता चला। एक युवक बच्चे को गोद में ले जाते हुए सीसीटीवी में कैद हुआ था। इसके बाद पुलिस को मामले की सूचना दी गई। परिजन स्वयं भी मासूम की तलाश में जुटे थे। बस्ती के 50 से अधिक लोग भी मासूम को खोज रहे थे। पुलिस ने अपहर्ता के सीसीटीवी फुटेज की मदद ली। इसमें वह बच्चे को गोद में उठाकर ले जाते दिखाई दे रहा था। इसके बाद अपहरणकर्ता की फुटेज इंटरनेट मीडिया में प्रसारित कर दी गई। देर रात परिजनों के पास फोन आए और बताया गया कि फुटेज से मिलता-जुलता युवक आजमपाड़ा में अपने सगे संबंधी के यहां आया हुआ था। वह युवक भी मंगलवार को शाम से गायब था। बीती रात वह यहां लौटा। रात तीन बजे क्राइम ब्रांच की टीम बच्चे को वापस लेकर लौटी तो पुलिस ने उसे पकड़ लिया। उसका चेहरा फुटेज से मिलाया तो वह हूबहू था। पुलिस ने उससे पूछताछ की तो आरोपित गुमराह करने का प्रयास करता रहा। पुलिस ने सख्ती दिखाई तो आरोपित ने मासूम के अपहरण की बात स्वीकार कर ली। आरोपी ने मासूम मयंक के सकुशल होने की जानकारी दी। पुलिस को बताया कि मासूम मयंक को वृंदावन में छोड़ आया है। उसके अचानक इस तरह से गायब होने पर लोगों को शक हो सकता था। जिसके चलते वह अगले ही दिन यहां लौट आया। पुलिस ने आरोपित की निशानदेही पर वृंदावन से मासूम को बरामद कर लिया। मासूम मयंक का माता-पिता के बिना रोकर बुरा हाल था। वह घर जाने की जिद कर रहा था। माता-पिता के पास जाने की जिद करते हुए सो गया था। आधी रात को मयंका चाचा राहुल पुलिस के साथ उक्त घर पर पहुंचे। पुलिस ने मासूम को बरामद करने के बाद जैसे ही उसे जगाया। चाचा को सामने देखते ही मासूम उनसे बुरी तरह से लिपट गया। वह चाचा राहुल की गोद से नहीं उतर रहा था। वह बुरी तरह से डरा हुआ था।

बहन के यहां छोड़ आया था मयंक को
आगरा। पुलिस के शिकंजे में फंसे अपहरणकर्ता का नाम मोहसिन है। वह बच्चे को वृंदावन में अपनी बहन के यहां छोड़ आया था। उसका कहना था कि बच्चा उसे अच्छा लगा था, इस कारण वह उसे उठा ले गया। आरोपी पुलिस को लगातार गुमराह करता रहा। जिसे वह अपनी बहन बता रहा था, उस महिला ने उसे पूर्व में यहां रहा किराएदार बताया। पुलिस महिला से भी पूछताछ कर रही है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments