Monday, June 24, 2024
HomeUttar PradeshAgraसेंट्रल जेल में आयोजित हुआ विशाल भंडारा

सेंट्रल जेल में आयोजित हुआ विशाल भंडारा

2200 कैदियों ने एक साथ किया प्रसाद ग्रहण
तीन दिन यहां गूंजी श्रीराम कथा की चौपाइयां
आगरा। सेंट्रल जेल में तीन दिन तक अलग ही माहौल रहा। जेल परिसर में श्रीराम कथा की चौपाइयां गूंजती रहीं। सभी बंदी खुले आसमान के नीचे भक्ति में लीन ताली बजा रहे थे। इसके बाद रात में 2200 बंदियों ने कारगार से बाहर निकल खुले में भंडारे का आनंद लिया। सेंट्रल जेल में कारागार प्रशासन द्वारा तीन दिवसीय मानस कथा का आयोजन किया गया था। अयोध्या से आई कथा वाचक राज राजेश्वरी देवी ने अपनी अमृत वाणी से कथा सुनाई। जेल प्रशासन द्वारा कथा के लिए विशेष इंतजाम किए गए थे। परिसर में लाउड स्पीकर लगे। इसके अलावा सभी बंदियों को कथा पंडाल में लाया गया। बंदियों ने तीन दिन तक दोहपर दो से शाम पांच बजे तक पूरे भक्ति भाव से कथा सुनी। रविवार को कथा का समापन था। ऐसे में सभी बंदियों ने कथा के बाद आरती की। इस दौरान डीआईजी जेल आरके मिश्रा भी उपस्थित रहे। उन्होंने बंदियों को संबोधित करते हुए कहाकि बंदी इसी समाज का अंग हैं। कुआं एक ही मगर, इनका जल थोड़ा दूषित है। बंदियों की ऊर्जा थोड़ी छिन्न-भिन्न है। इसलिए वो यहां पर हैं। जेल में बंदियों की ऊर्जा को साधने का काम होता है। इसलिए इसे साधना कहते हैं। इसके लिए जेल में प्रवचन कार्यक्रम को आयोजन किया है। इससे परिस्थिति जन्य या अनजाने में अपराध करने वाले बंदियों को मुख्य धारा से जोड़ने में सहायता मिलेगी। डिप्टी जेलर आलोक कुमार ने बताया कि जेल में इस तरह एक साथ सभी बंदियों को खुले में बैठाकर पहली बार भंडारा कराया गया। इसके पीछे उद्देश्य था कि भागवत कथा के बाद जब प्रसाद दिया जाता है तो वो सबको एक साथ बैठाकर दिया जाता है। ऐसे में कथा के बाद बंदियों को उनके बैरक में प्रसाद देने से वो बंधन का ही अनुभव करते। उन्हें आध्यात्मिक अनुभव कराने के लिए एक साथ बैठाकर भोजन कराया गया है। डिप्टी जेलर ने बताया कि भंडारे में बनी पूड़ी-सब्जी और खीर को जेल के बंदियों ने ही बनाया है। सभी ने इस आयोजन में बढ़ चढ़कर भाग लिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments