Sunday, June 23, 2024
HomeUttar PradeshAgraउत्पीड़न : श्वसुर बहू के पीछे छोड़ देता है अपना पालतू...

उत्पीड़न : श्वसुर बहू के पीछे छोड़ देता है अपना पालतू डॉग

मासूम बच्चे के साथ भटकने को मजबूर है विवाहिता
पति के पहले से शादीशुदा होने की बात भी छुला ली

आगरा। एक विवाहिता दर-दर भटक रही है। 9 महीने पहले उसकी शादी हुई थी। आरोप है कि ये शादी करने वाले शख्स ने उससे पहली शादी छिपाई थी। शादी के बाद ससुर बुरी नियत रख रहा था। 7 महीने की गर्भवती होने पर उसको बेघर कर दिया। वह ससुराल आती है तो श्वसुर उसके पीछे अपना पालतू डॉग छोड़ देता है। इतना ही नहीं, अपनी ही बहू पर चोरी की एफआईआर लिखवा दी। अब पीड़िता डेढ़ महीने की बच्ची के साथ भटकने को मजबूर है। सीएम पोर्टल पर भी पीड़िता ने शिकायत दर्ज कराई है। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो की जानकारी करने पर पीड़िता के बारे में पता चला। पीड़िता के अनुसार वह एटा जिले के थाना पिलुआ के गोकुलपुर गांव की रहने वाली प्रीति कुशवाह है, उसकी बुआ के जरिए उनके परिवार के पास आगरा के थाना एमएम गेट अंतर्गत मोती कटरा नई गली निवासी चांदी व्यवसायी गगन अग्रवाल पुत्र वीरेंद्र का रिश्ता आया था। लॉकडाउन के समय 20 जून 2021 को उनकी शादी हो गई।
पीड़िता के अनुसार पति ने शादी में फोटो के दौरान भी मास्क लगा रखा था शादी के बाद पता चला की पति की पहले एक शादी हो चुकी है और उसके दो बेटियां हैं। इस पर ससुरालीजनों ने उसे तलाक के कागजात दिखाए तो उसने विरोध खत्म कर दिया। पति छत्तीसगढ़ में काम करते थे और महीने में एक दो दिन के लिए ही आते थे। प्रीति ने बताया की ससुर उस पर बुरी नियत रखता था। उसका बात करने और छूने का तरीका उसे अच्छा नहीं लगता था। शादी के सात माह बाद उसे गर्भ ठहरा और दो माह बीतने पर ससुर की हरकतों की शिकायत उसने सास और पति से कर दी। इसके बाद पति ने उसे घर से निकाल दिया। डेढ़ माह पूर्व उसने बच्ची को जन्म दिया। अब जब वो घर जाती है तो कोई उसे अंदर नहीं आने देता है और ससुर कुत्ते को खोल देता है। अपनी और बेटी की जान के खतरे के चलते ससुराल भी नहीं जा पा रही। पीड़िता ने बताया की एटा जिले के थाना पिलुआ में उसका मुकदमा दर्ज है। पीड़िता ने बताया की परिवार बहुत गरीब है और जैसे तैसे उन्होंने इतने दिन उसे रख लिया। अब बेटी हो गई है और बार – बार आगरा कोर्ट आना पड़ रहा है। वकील को फीस देने के पैसे तो दूर की बात आने जाने का किराया जुटाने में ही लोगों के आगे हाथ फैलाने पड़ रहे हैं, ऐसे में परिजनों ने भी अपना इंतजाम करने को कह दिया है। अब डेढ़ माह की बच्ची लेकर वह कहां जाए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments