Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraविवि : आवासीय छात्रों को आईकार्ड क्यों नहीं देते?

विवि : आवासीय छात्रों को आईकार्ड क्यों नहीं देते?

चीफ प्रॉक्टर के रवैये से छात्र-छात्राएं बुरी तरह खफा
निदेशकों को जारी किया पत्र, कक्षाएं नियमित लगवाएं

आगरा। डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के खंदारी कैंपस में बनी कैंटीन में बैठे छात्र को चीफ प्रॉक्टर द्वारा पीटने पर हंगामा हुआ। चीफ प्रॉक्टर के रवैये से छात्र-छात्राएं बुरी तरह से खफा हैं। इधर चीफ प्रॉक्टर का आरोप है कि विवि परिसर में कतिपय छात्र-छात्राएं अनैतिक कार्य करते हैं। बता दें कि मामला कल का है। एक छात्र का आरोप था कि चीफ प्रॉक्टर मनु प्रताप ने उससे मारपीट की है। छात्र के साथ अभद्रता पर एनएसयूआई ने कार्यकर्ता एकत्रित हो गए थे। बीएससी द्वितीय वर्ष के छात्र अमन के साथ ह ुई अभद्रता को लेकर छात्रों की चीफ प्रॉक्टर से बहस हुई। इस दौरान छात्र-छात्राएं धरने पर बैठ गए। उनका कहना था कि पिछले कई दिनों से छात्रों के साथ अभद्रता की जा रही है। इसको लेकर पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष गौरव शर्मा और एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष सतीश सिकरवार की चीफ प्रॉक्टर से तकरार हो गई। दोनों के बीच काफी बहस हुई। छात्रों की मांग है कि आवासीय छात्रों को आईकार्ड इश्यू किए जाएं, जिससे कि रोज-रोज उन्हें आईकार्ड के लिए परेशान नहीं किया जाए। चीफ प्रॉक्टर ने आवासीय संस्थानों के निदेशकों को कक्षाएं संचालित न होने को लेकर लेटर लिखा है। छात्रों से तकरार के बाद चीफ प्रॉक्टर की ओर से सभी निदेशक, विभागाध्यक्षों को लेटर जारी किया गया है। इसमे लिखा है कि विवि के परिसरो में कक्षाओं के समय छात्र कैंटीन व अन्य स्थानों पर बैठते हैं। जोर-जोर से बात करते हैं और अनैतिक कार्य करते हैं। इससे विवि का माहौल खराब होता है। जब छात्रों से पूछा जाता है तो वो कक्षाएं न चलने की बात कहते हैं। शिक्षक पढ़ाने नहीं आते हैं। ऐसे में इस प्रकरण का संज्ञान लेते हुए सुनिश्चित करें कि नियमित कक्षाएं संचालित हों।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments