Sunday, June 23, 2024
HomeUttar PradeshAgra‘जीआरपी को प्रभावशाली बनाऐगा डीएमएस ऐप’ : मुश्ताक

‘जीआरपी को प्रभावशाली बनाऐगा डीएमएस ऐप’ : मुश्ताक

प्रदेश के सभी छह अनुभागों में आगरा में किया लागू
आगरा के साथ झांसी में हुआ इसका सफल ट्रायल

दर्पण व्यू संवाद।
आगरा। रेल यात्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल रही जीआरपी के ड्यूटी मैनेजमेंट को और भी सुदृढ़ बनाने के लिए नया ऐप लांच किया है। जीआरपी की कड़ी में शामिल हुए इस नए ऐप को ड्यूटी मैनेजमेंट सिस्टम (डीएमएस) के माध्यम से जीआरपी के सभी अधिकारियों कॉन्स्टेबल और अधीनस्थ की ड्यूटी लगाई जाएगी। इसके पीछे शत प्रतिशत ड्यूटी को प्रभावी बनाने और अपराधियों पर अंकुश लगने की उम्मीद जताई गई है। एसपी रेलवे मोहम्मद मुश्ताक ने बताया कि जीआरपी की कार्यप्रणाली और सुदृढ़ बनाने कि दिशा में बड़ा परिवर्तन किया है। इस परिवर्तन को बड़ा प्रभावशाली माना जा रहा है। जीआरपी की व्यवस्था में लाए गए डीएमएस ऐप यानी ड्यूटी मैनेजमेंट ऐप अब हर जीआरपी के समस्त कर्मचारी गण के मोबाइल में होगा। इस ऐप के माध्यम से ही अब हर थाना व चौकी पर तैनात प्रभारी इसका नोडल अधिकारी होगा जो अपने अधीनस्थों की ड्यूटी लगाएगा। अब जीआरपी के कर्मचारियों को अपनी ड्यूटी लगवाने के लिए थाने या चौकी नहीं पहुंचना होगा बल्कि जहां उनकी ड्यूटी लगी है वहीं से वह ऐप खुलकर अपनी अटेंडेंस लगा देंगे। एसपी रेलवे मोहम्मद मुस्ताक का कहना है कि इस एप के माध्यम से ट्रेन में कितना एस्कॉर्ट है, प्लेटफार्म पर कितना एस्कॉर्ट तैनात है, थाने चौकी पर किन-किन लोगों की ड्यूटी लगी है। स्कोर्ट ट्रेन में चल रहा है या नहीं, इन सब की जानकारी इस एप के माध्यम से आसानी से हो जाएगी। क्योंकि प्लेटफार्म और ट्रेन में तैनात स्कोर्ट को हर तीन घंटे बाद अपनी उपस्थिति दर्ज करानी होगी। अभी तक जीआरपी में रजिस्टर प्रणाली प्रचलित है जिससे एस्कॉर्ट ड्यूटी, प्लेटफार्म ड्यूटी व अन्य स्थानों पर जीआरपी के अधीनस्थ कर्मचारियों को तैनात किया जाता है। एस्कॉर्ट ड्यूटी, प्लेटफार्म ड्यूटी व थाना और चौकी ड्यूटी पर जो तैनात है। उनका वेरिफिकेशन प्लेटफार्म और एस्कॉर्ट में तैनात लोग ही करते हैं और एक दूसरे के हस्ताक्षर लिया करते हैं। यह भी होता था कि कर्मचारी ड्यूटी पर तैनात नहीं है लेकिन फिर भी उसकी उपस्थिति दर्ज हो जाती थी, इसके चलते कई बार अपराधिक घटनाएं भी हो जाती थी। एसपी रेलवे मोहम्मद मुस्ताक ने बताया कि प्रदेश में जीआरपी सभी अनुभागों में अभी आगरा और झांसी पहला अनुभाग है जहां इस सिस्टम को लागू किया जा रहा है। इस सिस्टम के लागू हो जाने से ड्यूटी में तो पारदर्शिता आएगी। वहीं, अपराधियों पर भी शिकंजा आसानी से कसा जा सकेगा। क्योंकि ट्रेन और प्लेटफॉर्म पर जो एस्कॉर्ट तैनात होगा। अगर कोई अपराधिक गतिविधियां होती है तो उसे तुरंत सूचित भी आसानी से किया जा सकेगा या कोई अपराधिक घटना करके भाग रहा है तो वह भी हमें तुरंत सूचित कर देगा जिससे आसानी से उसे पकड़ा जा सके।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments