Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraनकली दवा से बर्बाद हुई आलू की फसल

नकली दवा से बर्बाद हुई आलू की फसल

शमसाबाद में बुबाई के 60 दिन बाद भी नहीं हुई ग्रोथ
किसानों में रोष, आज निरीक्षण करेंगे कृषि अधिकारी

आगरा। फतेहाबाद और शमसाबाद क्षेत्र में नकली दवा से आलू की फसल को भारी नुकसान हुआ है। किसानों का कहना है कि नकली दवा से आलू की फसल की बढ़त रुक गई है। गत दिवस कृषि विभाग की तकनीकी टीम ने फसलों का निरीक्षण किया। इस स्थिति को लेकर किसानों में भारी रोष है। मामले में अपर आयुक्त प्रशासन राजेश कुमार ने टीम गठित कर नुकसान का सर्वे कराया था। गत दिवस पर गांवों में पहुंची कृषि विभाग की तकनीकी टीम किसानों से मिली। किसानों ने बताया कि उनकी आलू की फसल की बबार्दी की वजह रेढ़ा नामक दवाई है। गांव आमदपुर, करीमपुरा बास दौलत, महमूदपुर, कंदोरा, वडोदरा आदि गांवों के किसानों की फसलें प्रभावित हैं। तकनीकी टीम को किसानों ने बताया कि बुवाई को 60 से दिन से अधिक हो गए। आलू में ग्रोथ नहीं हो रही है। अभी तक 4 इंच का ही पौधा हुआ है। इससे आलू की पैदावार में भारी नुकसान होगा। किसान नेता श्याम सिंह चाहर के नेतृत्व में किसानों ने उप निदेशक देव शर्मा को ज्ञापन दिया। किसानों ने प्रति एकड़ 2 लाख रुपए मुआवजे की मांग की है। साथ ही नकली दवा देने वाली कम्पनी और दुकानदारों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराए जाने की मांग उठाई है। बता दें कि कंपनी के 4 कर्मचारियों को किसानों ने बंधक भी बना लिया था। बाद में उन्हें शमसाबाद थाने के सुपुर्द कर दिया। आलू विकास समिति के लक्ष्मी नारायण, राम निवास रघुवंशी, प्रदीप शर्मा, रविंद कुमार, वीरेंद्र सिंह, अतुल कुमार, विनोद कुमार, जयवीर, रणवीर, रजनीश कुमार, गजेंद्र आदि ने फसल प्रभावित होने पर आक्रोश जताया है। तकनीकी टीम के भ्रमण के बाद आज यानी गुरुवार को उप निदेशक उद्यान कौशल किशोर नीरज, जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार आदि की टीम आलू की फसलों का निरीक्षण करेगी। प्रभावित किसानों की खेतों पर जाकर उनसे पूछताछ की जाएगी कि उन्होंने फसल में कौन सी दवाएं इस्तेमाल की हैं और बीज कहां से लिया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments