Thursday, June 13, 2024
HomeUttar PradeshAgraमैं एक आईएएस ऑफिसर हूं, अपनी पहचान छिपाकर रखती हूं

मैं एक आईएएस ऑफिसर हूं, अपनी पहचान छिपाकर रखती हूं

हनी ट्रैप में फंसाया जीएसटी अधिकारी, लाखों हड़प लिए
थाना जगदीशपुरा में दर्ज कराया केस, जांच में जुटी पुलिस

आगरा। एक जालसाज महिला ने खुद को आईएएस अधिकारी बताकर राज्य कर अधिकारी को ऐसे फंसाया कि वह अपना आपा खो बैठा, उसके जाल में फंसकर उसने महिला से शादी भी कर ली। इसके बाद जब उसका राज खुला तो वह सन्न रह गया। वह एक हनी ट्रैपिंग का शिकार हुआ था। महिला ने अधिकारी से ब्लैमेलिंग कर लाखों रुपये हड़प लिए हैं। पीडि़त ने थाना जगदीशपुरा में केस दर्ज कराया है।

जीएसटी अधिकारी नोबिल कुमार ने बताया कि फेसबुक के माध्यम से सुल्तानपुर की कल्पना मिश्रा दोस्ती हो गई। बातचीत के प्रभावशाली तरीके से उन्हें अपने जाल में फंसा लिया। महिला ने ख्ुाद अंडर कवर आईएएस अधिकारी बताया। लेती। कुछ ही समय में उनकी घनिष्ठता हासिल कर लेती कि सामने वाले के बारे में सब कुछ जान लेती थी। इसके बाद प्यार का इजहार और फिर शादी की बात करती। शादी का वीडियो बनाकर ब्लैकमेलिंग का खेल राज्य कर अधिकारी नोबिल कुमार ने पुलिस को बताया कि कल्पना मिश्रा शादी का वीडियो बनाने के बाद ब्लैकमेलिंग का खेल शुरु करती थी। जाल में फंसे व्यक्ति से वह लाखों रुपये की मांग करती। समाज में प्रतिष्ठा धूमिल होने के डर से पीडि़त पुलिस के सामने नहीं आते थे। कल्पना ने उनके सामने भी खुद ही शादी का प्रस्ताव रखा था। शादी का अनुबंध पत्र तैयार किया। जिसके बाद आर्य समाज मंदिर में फेरे लिए थे। प़ुलिस उपायुक्त से शिकायत के बाद उन्होंने पूरे मामले की जांच कराई। जिसके बाद अभियोग दर्ज किया गया। पुलिस अधिकारी को बताया था। नोबिल कुमार ने पुलिस को बताया कल्पना मिश्रा ने एक पुलिस अधिकारी को भी इसी तरह से अपने जाल में फंसाया था। उन्हें बताया कि वह एसडीएम है। नोबिल ने पुलिस को बताया कि अधिकारी को जाल में फंसाने के मामले का वीडियो साक्ष्य के रूप में उनके पास है। कल्पना मिश्रा इंटरनेट मीडिया एकाउंट खंगाल रही पुलिस अभियोग दर्ज करने के बाद पुलिस कल्पना मिश्रा के इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म के विभिन्न एकाउंट खंगाल रही है। जिससे कि यह पता लगाया जा सके कि उसकी कितने लोगों से मित्रता है। दोस्ती, प्यार और शादी के इस खेल में उसके पीछे कोई गिरोह तो सक्रिय नहीं है।

 

पहले भी हो चुके हैं हनी ट्रैप के शिकार
जुलाई २०२१ ट्रांस यमुना इलाके में नसिंग होम संचालक डा. उमाकांत गुप्ता को हनी ट्रैप के जाल में फंसा बदमाशों ने अगवा किया। पांच करोड़ रुपये फिरौती मांगने की तैयारी थी। सितंबर २०२२ जयपुर हाउस के रहने वाले व्यापारी पुत्र को दिल्ली की युवती ने हनी ट्रैप का शिकार बना रकम वसूली। नवंबर २०२२ खेरागढ़ इलाके में राजस्थान की महिला ने कई आढ़तियों को हनी ट्रैप के जाल में फंसा पांच लाख मांगे। थानाध्यक्ष जितेंद्र कुमार ने बताया कि कल्पना मिश्रा की तलाश की जा रही है। उसके पकड़े जाने के बाद ही पूरे मामले का पर्दाफाश किया जा सकेगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments