Thursday, June 13, 2024
HomeUttar PradeshAgraमहिला कर्मचारी बेटियों के साथ घर में कैद हुईं

महिला कर्मचारी बेटियों के साथ घर में कैद हुईं

जेल से छूटने के बाद आरोपियों की धमकी से दहशत
पूर्व में किया अपहरण, फिरौती भी मांगी गई थी उनसे

आगरा। जलकल विभाग की महिला कर्मचारी ने लूट, फिरौती के अपहरण आदि धाराओं में तीन बदमाशों को जेल भिजवाया था। वे जेल से छूट आए हैं और अब जान के दुश्मन बन गए हैं। महिला और उसकी पुत्रियां दहशत में हैं। वे घरों में कैद हो गई हैं। उन्हें घर तक छोड़ना पड़ा। महिला बेटियों के साथ मायके में रहने को मजबूर है।
नरायच, ट्रांस यमुना निवासी मालती देवी को मार्च 2023 में कार सवार अभियुक्त अगवा कर ले गए थे। अपहरण की साजिश एक ई रिक्शा एजेंसी के संचालक ने रची थी। वह महिला की बेटी के पीछे पड़ा था। उसने भाड़े के बदमाश भेजे थे। अपहरण के बाद 50 लाख की फिरौती मांगी गई थी। महिला ने लूट, फिरौती के लिए अपहरण आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने इस मामले में तीन बदमाशों को जेल भेजा था। साजिशकर्ता के खिलाफ भी कार्रवाई हुई थी। आरोपी जमानत पर बाहर आ गए हैं।
महिला ने पुलिस को बताया कि वह दो बेटियों के साथ मायके में रह रही है। नौकरी भी नहीं कर पा रही है। जमानत पर छूटकर आए शिवम चौधरी उर्फ मोनू जाट व सूर्यांश गुप्ता उर्फ मयंक मुकदमे में समझौते का दबाव बना रहे हैं। आरोपियों की दहशत के चलते उनकी बेटियां स्कूल नहीं जा रही हैं। एसीपी छत्ता आरके सिंह ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
बता दें कि महिला पूर्व में सिकंदरा क्षेत्र में किराए पर रहती थी। 21 मार्च 2023 को महिला का अपहरण हुआ था। आरोप था कि संजीव चौधरी उसकी बेटी के पीछे पड़ा था। संजीव ने साजिश रचकर अपहरण कराया था। पुलिस ने 23 मार्च को पनवारी, सिकंदरा निवासी संजीव चौधरी, आवास विकास कॉलोनी निवासी सूर्यांश और नरेंद्र, नवी सराय बोदला निवासी साहिल को गिरफ्तार किया। घटना में शामिल मोनू जाट बाद में पकड़ा गया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments