Sunday, June 23, 2024
HomeUttar PradeshAgraरक्षाबंधन पर भाई की कलाई पर बंधेगी ईको-फ्रेंडली राखी

रक्षाबंधन पर भाई की कलाई पर बंधेगी ईको-फ्रेंडली राखी

नगर निगम ने गाय के गोबर से तैयार करवाई राखी
रक्षा बंधन के बाद गमले में डाल दो, उगेगी तुलसी

आगरा। रक्षाबंधन पर यूं तो बाजार में एक से बढ़ाकर एक फैंसी राखियां आई है, लेकिन इस बार ईको फ्रेंडली राखी भी बाजार में आई हैं। ये राखियां सोने-चांदी या किसी अन्य आइटम से नहीं बनी है, बल्कि इनको बनाने में गाय के गोबर का इस्तेमाल किया गया है। इतना ही नहीं इन राखियों में तुलसी के बीज डाले गए हैं, जिससे इनको गमले या किसी अन्य जगह पर डालने पर तुलसी का पौधा उग जाएगा।
रक्षाबंधन के लिए नगर निगम ने लव यू जिंदगी फाउंडेशन के साथ मिलकर ईको फ्रेंडली राखियां तैयार की है। इन राखियों की बिक्री के लिए नगर निगम और शहर के अन्य जगह पर स्टॉल लगाई गई है।
फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रंकुर जैन ने बताया कि हर साल रक्षाबंधन पर करोड़ों राखियां बिकतीं है। ये राखियां प्लास्टिक व अन्य सामग्री से बनती हैं। त्योहार के बाद इन राखियों को फेंक दिया जाता है, इससे पर्यावरण को नुकसान होता है। ऐसे में फाउंडेशन द्वारा ईको फ्रेंडली राखी बनाई। इन राखियों को बनाने में केवल गाय के गोबर का इस्तेमाल किया गया है। ये गोबर भी नगर निगम द्वारा संचालित कान्हा उपवन गोशाला की गायों का है।
उन्होंने बताया, इन राखियों को सुंदर बनाने के लिए इस पर डेकोरेशन की गई है। इसके अलावा इन राखियों में तुलसी की मंजरी को डाला गया है, जिससे जब इन राखियों को त्योहार के बाद गमले में या किसी पार्क में रखा जाएगा तो उसमें घुल जाएंगी। इसमें रखे बीज से तुलसी के पौधे पैदा हो जाएंगे। इससे पर्यावरण को फायदा होगा।
इन राखियों की कीमत 25 रुपए रखी गई है। उनका कहना है, इन राखियों से पर्यावरण को फायदा होगा ही साथ में गोमाता की सहायता भी होगी। अगर गोपालक इसको समझ लें तो वो गाय को बाहर नहीं छोड़ेगे। वो गाय के गोबर से ही कई तरह के सामान बना सकेंगे।
नगर निगम में लगी स्टॉल पर गोबर की राखियां देखकर लोगों की भीड़ लग गई। राखी के अलावा कई और आइटम भी थे। इसमें की रिंग, नेम प्लेट व राम और राधे-राधे की प्लेट थी। लोगों ने इन आइटम को पसंद किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments