Monday, June 24, 2024
HomeUttar PradeshAgraदयालबाग प्रकरण : अब 10 अक्टूबर को होगी सुनवाई, तब तक...

दयालबाग प्रकरण : अब 10 अक्टूबर को होगी सुनवाई, तब तक स्थगनादेश

सरकारी जमीन पर कब्जे को लेकर याचिका है विचाराधीन
याचिका में अब ग्रामीणों ने भी शामिल किया है अपना पक्ष

आगरा। सरकारी जमीन पर कब्जे के मामले में हाईकोर्ट में विचाराधीन मामले में अब अगली सुनावाई 10 अक्टूबर को होगी। तब तक राधास्वामी सत्संग सभा को स्थगनादेश मिल गया है। प्रशासन किसी तरह की कोई कार्रवाई इस मामले में नहीं कर सकता।
राधास्वामी सत्संग सभा और पुलिस-प्रशासन के बीच हुए टकराव के बाद सभा की ओर से हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है। इसमें संबंधित जमीन को सत्संग सभा ने अपना बताया था, जबकि प्रशासन के रिकॉर्ड में यह जमीन सरकारी और आम रास्ते की है। इसी को लेकर आज (गुरुवार को) उच्च् न्यायालय में सुनवाई थी। इस याचिका की सुनवाई के बाद अब 10 अक्टूबर की तारीख दे दी गई है। अगली सुनवाई तक यथास्थिति रहेगी। वहीं, इस मामले में ग्रामीणों ने भी अपना पक्ष शामिल किया है।
बता दें कि सदर तहसील की ओर से राधास्वामी सत्संग सभा को सरकारी जमीन, सार्वजनिक रास्ते और नहर पर कब्जा हटाने के नोटिस दिए थे। लंबे समय से इसको लेकर कार्रवाई भी चल रही थी। तहसील प्रशासन ने कब्जा हटाने के लिए समय दिया था। समय पूरा होने के बाद पिछले शनिवार को राजस्व विभाग पुलिस फोर्स लेकर कब्जा हटाने गया था। टीम ने सबसे पहले टेनरी गेट हटाया। इसके बाद आठ प्वाइंट पर रास्ते से अवैध निर्माण हटाया गया। मगर, इस कार्रवाई के तुरंत बाद सत्संग सभा ने दोबारा गेट और फेन्सिंग कर दी थी। रविवार को फिर से कब्जा हटाने गई टीम के साथ सत्संगियों की भिड़ंत हो गई। जमकर पथराव और लाठीचार्ज हुआ था। इसके बाद प्रशासन ने सभा को अपने दस्तावेज दिखाने के लिए सात दिन का समय दिया था।

 

ग्रामीणों और सभा में तनावपूर्ण हालात
सत्संगी सोशल मीडिया पर धमकी दे रहे हैं कि गलत बयानबाजी भारी पडेगी। ग्रामीण भी अपना पक्ष रखने के लिए कोर्ट में पहुंच गए। सत्संग सभा के अनुयायी सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं। वो अब कथित रूप से सोशल मीडिया पर धमकी भरे पोस्ट कर रहे हैं। एक पोस्ट में कहा गया है कि दयालबाग के बारे में सच कौन बोल रहा है? मीडिया के लोग हमारे आचार्यों की तस्वीर को गलत ढंग से पेश करने, अभद्र भाषा का प्रयोग करने से पहले एक बार सोच लें। क्योंकि बिना सोचे समझे गलत बयानबाजी भारी पडेगी। कोर्ट जाने के लिए तैयार रहिए। आपका काम है खबर देना। सच बोलिए और सभ्यता में रह कर बोलिए। श्रीराम ने मर्यादा में रहना सिखाया था और श्रीकृष्ण महाराज ने मर्यादा में कैसे रहना है ये सिखाया था। हमें दोनों आता है।

धमकी पर दी थाने में तहरीर
दयालबाग के एक युवक को सोशल मीडिया पर धमकी मिली थी। इसके बाद उसने थाना न्यू आगरा में तहरीर भी दी है। 10 दिन पहले प्रशासन ने दयालबाग में अवैध कब्जा हटाया था। पुलिस-प्रशासन के सामने ही दोबारा से गेट को खड़ा कर दिया गया था। प्रशासन ने दोबारा गेट तोड़ दिया। लेकिन फिर से प्रशासन को चुनौती देते हुए रात में गेट लगा दिया गया। इसके बाद रविवार शाम को प्रशासन फिर से अवैध कब्जा हटाने पहुंचा। यहां पर सत्संगियों और पुलिस के बीच टकराव हो गया था। दयालबाग में अवैध कब्जा हटाने को लेकर पुलिस और सत्संगियों के बीच टकराव हो गया था। इसके बाद प्रशासन भले ही बैकफुट पर आ गया हो। मगर सत्संग सभा और उनके अनुयायी सोशल मीडिया पर अभियान चला रहे हैं। इस अभियान को ‘जस्टिस फॉर दयालबाग’ नाम दिया है। इसमें टकराव वाले दिन के कुछ वीडियो फुटेज पोस्ट किए गए हैं।

खुला है कोर्ट का रास्ता….
प्रशासन और सत्संगियों के टकराव के बाद आस-पास के ग्रामीणों ने भी इस मामले को मुख्यमंत्री तक ले जाने की तैयारी की है। इसको लेकर पहले महापंचायत बुलाई गई थी, लेकिन उसे टाल दिया गया। ग्रामीणों का कहना है, ‘मामला अब कोर्ट में है, तो वो भी इस मामले में कोर्ट में अपना पक्ष रखने की तैयारी कर रहे हैं। प्रशासन के अलावा ग्रामीण भी सत्संग सभा के खिलाफ पार्टी बनने के लिए आज ग्रामीण हाईकोर्ट भी पहुंच गए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments