Thursday, June 13, 2024
HomeUttar PradeshAgraदीपावली तक गैस चैंबर में तब्दील न हो जाए ताजनगरी

दीपावली तक गैस चैंबर में तब्दील न हो जाए ताजनगरी

प्रदूषण : शहर की आबोहवा फिलहाल ठीक नहीं
बदलता मौसम भी प्रदूषण का स्तर तेजी से बढ़ा रहा
विभिन्न विभाग एलर्ट, सड़कों पर पानी का छिड़काव

आगरा। बढ़ते प्रदूषण की यही स्थिति रही तो इस बार दीपावली के बाद शहर गैस चैंबर में तब्दील न हो जाए? इस आशंका ने अधिकारियों की नींद उड़ा रखी है। प्रदूषण को कैसे नियंत्रित किया जाए, इस पर विचार मंथन चल रहा है।
ताजनगरी की आबोहवा खराब की मुख्य वजहें आईं सामने आई हैं। मौसम प्रदूषण का साथ दे रहा है। यदि हालात नहीं सुधरे तो दिल्ली जैसे हालात भी यहां बन जाएंगे।
शहर की वायु गुणवत्ता तेजी से हो रही खराब। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी डा. विश्वनाथ शर्मा के अनुसार मेट्रो रेल कारपोरेशन, नगर निगम, एडीए, आगरा रेल मंडल सहित अन्य विभागों को दिशा-निर्देश जारी किए जा चुके हैं। पानी छिड़काव पर जोर दिया गया है। प्रशासन जल्द प्रदूषण के मामले पर बैठक करेगा।
कूड़ा जलने की घटनाएं हों या फिर मौसम के मिजाज में आ रहा बदलाव। बादलों का साथ मिलने से वायु गुणवत्ता तेजी से खराब हो रही है। शुक्रवार को शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) 152 पर पहुंच गया जबकि संजय प्लेस का सबसे अधिक 177 और मनोहरपुर का सबसे कम 125 रहा। वायु गुणवत्ता में कमी को लेकर सड़कों और पेड़ों की ठीक से धुलाई नहीं हो रही है। न ही खोदाई स्थलों के पास ठीक तरीके से हरा पर्दा लगाया गया है। यहां तक कई जगहों पर एंटी स्माग गन का प्रयोग भी नहीं किया जा रहा है।
मौसम विशेषज्ञों की माने तो वायु गुणवत्ता खराब होने की कई मुख्य वजह होती हैं। इसमें बादलों का लगातार छाया रहना, हवा में गति न होना, कूड़ा जलना, खोदाई स्थलों के पास नियमित अंतराल में पानी का छिड़काव न होना और हरा पर्दा न लगा होना, सड़कों और पेड़ों की ठीक से धुलाई न करना शामिल है। ऐसे में यह कार्य हर दिन सुबह और शाम अनिवार्य रूप से होना चाहिए। इससे वायु गुणवत्ता में सुधार आ सकता है। इस माह वायु गुणवत्ता तेजी से खराब हो रही है। हालांकि यह नवंबर 2022 के मुकाबले कम है। तीन नवंबर 2022 को शहर का एक्यूआइ 236 था। संजय प्लेस का 461 था।
मंडलायुक्त रितु माहेश्वरी का कहना है कि वायु गुणवत्ता सूचकांक के प्रगति को लेकर जल्द अधिकारियों के साथ बैठक की जाएगी। पूर्व में जो भी दिशा-निर्देश नगर निगम सहित अन्य विभागों को जारी किए गए हैं। उनके पालन पर जोर दिया जाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments