Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgra200 करोड़ के फर्जी लेन-देन का खुलासा

200 करोड़ के फर्जी लेन-देन का खुलासा

आयकर विभाग की कार्रवाई में मिली बड़ी सफलता
16 करोड़ की ज्वैलरी व काफी मात्रा में नकदी जब्त

आगरा। तेल कंपनियों ने खर्चे अधिक दिखाकर लाभ को छुपा लिया। चार तेल कंपनियों पर आयकर विभाग ने कार्रवाई की थी। लगभग तीन दिन की छानबीन में टीम ने कम्प्यूटर लैपटाप के साथ लेन देन के दस्तावेजों को जब्त कर उनकी पड़ताल की। इसके बाद बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। आयकर विभाग की कार्रवाई आगरा के साथ अन्य राज्य में भी हुई थी।
चार दिन तक सर्च में तीन सौ अधिकारी और कर्मचारी जांच में जुटे रहे। हवाला कारोबारी के यहां भी की गई कार्रवाई। आयकर विभाग को बड़ी सफलता हाथ लगी है। तेल कंपनियों ने प्रोफिट को कम दिखाने को खर्चे अधिक दिखाए हैं। बोगस फर्मों से सरसों की बड़ी मात्रा में खरीद दिखाई है। चारों कंपनियों के यहां हुई कार्रवाई में लगभग 200 करोड़ रुपये के फर्जी लेन-देन मिले हैं। विभाग ने 16 करोड़ रुपये कीमत की ज्वैलरी और नकदी जब्त की है।
बता दें आयकर विभाग की जांच शाखा ने संयुक्त निदेशक के निर्देशन में 31 अक्टूबर की सुबह सात बजे आगरा के चार तेल कारोबारियों के यहां सर्च शुरू की थी। इनमें बीपी आयल, शारदा आयल मिल, एसके इंडस्ट्रीज और हरिशंकर एंड कंपनी के आगरा, भिंड, गुरुग्राम, कोलकाता आदि शहरों में स्थित 40 ठिकाने शामिल थे।
तेल कारोबारियों ने अपने लाभ को कम दिखाने के लिए खर्चे अधिक दिखाएं हैं। सरसों की अधिक खरीद दिखाई गई है। सरसों की अधिक खरीद और तेल के कम उत्पादन को देखते हुए विभाग ने जांच की, जिसमें बोगस फर्मों से लेन-देन की जानकारी सामने आई। तेल कारोबारियों में से किसी से भी विभाग ने सरेंडर नहीं कराया है। आयकर विभाग की टीम ने चारों फर्मों के यहां मिले रिकार्ड को कब्जे में लिया है। मोबाइल फोन, लैपटाप व कंप्यूटर में मिले डाटा की कापी विभागीय टीम लाई है। इनके आधार पर जांच करने के बाद विभाग कर अपवंचना की कार्रवाई करेगा। विभाग ने तेल कारोबारियों के यहां सर्च के साथ ही मोतीलाल नेहरू रोड स्थित एक सराफा कारोबारी के यहां भी कार्रवाई की। उसके यहां 60 लाख की नकदी व हवाला कारोबार की पर्चियां मिली हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments