Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraउठो देव..... जागो देव

उठो देव….. जागो देव

देवउठान एकादशी को लेकर शहर भर में उत्साह
शहर भर में हो रही डेढ़ हजार से अधिक शादियां

आगरा। उठो देव…. जागो देव। देव उठान एकादशी को लेकर आज शहर में उत्साह दिखाई दे रहा है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, देवउठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु चार माह के योग निद्रा से बाहर आते हैं। उनके बाहर आते ही भगवान शिव सृष्टि का संचालन पुन: श्री हरि के हाथ में सौंप देते हैं।
देवउठनी एकादशी हर साल कार्तिक शुक्ल एकादशी तिथि को मनाई जाती है। इसे हरि प्रबोधिनी एकादशी और देवुत्थान एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। आज बड़ी एकादशी से मांगलिक कार्य भी शुरू हो गए। शहर के तमाम घरों, मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना हुई। घरों और मंदिरों में भगवान सत्यनारायण की कथा के साथ-साथ तुलसी-शालिग्राम के विवाह का आयोजन हो रहे हैं।
आचार्य गौरव शुक्ला ने बताया कि भगवान के सोकर उठने की खुशी में देवोत्थान एकादशी मनाया जाता है। इसी दिन से सृष्टि को भगवान विष्णु संभालते हैं। इसी दिन तुलसी से उनका विवाह हुआ था। इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं। परम्परानुसार देव देवउठनी एकादशी में तुलसी जी विवाह किया जाता है, इस दिन उनका श्रंगार कर उन्हें चुनरी ओढ़ाई जाती है और परिक्रमा की जाती है। शाम के समय रौली से आंगन में चौक पूर कर भगवान विष्णु के चरणों को कलात्मक रूप से अंकित की जाती है। वैदिक पंचांग के मुताबिक कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 22 नवंबर को रात 11:03 से शुरू हो गई। इसका समापन आज (23 नवंबर) रात 9:01 पर होगा।

चावल का उपयोग वर्जित, दान उत्तम
मान्यताओं के अनुसार किसी भी एकादशी पर चावल का सेवन नहीं करना चाहिए। देवउठनी एकादशी ही नहीं बल्कि सभी एकादशी पर चावल खाना हर किसी के लिए वर्जित माना गया है। चाहे जातक ने व्रत रखा हो या न रखा हो। माना जाता है कि इस दिन चावल खाने से मनुष्य को अगला जन्म रेंगने वाले जीव में मिलता है। एकादशी के दिन दान करना उत्तम माना जाता है।

डेस्टिनेशन वेडिंग का हब बना शहर
आगरा। देवउठनी एकादशी पर शहर भर में शादियां हो रही हैं। एक अनुमान के अनुसार आज सायंकाल करीब पंद्रह सौ शादियां शहर में हो रही हैं। सभी मैरिज होम, होटल आदि बुक हैं। बैंड वाले कई शिफ्टों में व्यस्त हैं।
शहर में देवउठनी के मौके पर डेस्टिनेशन वेडिंग भी हो रही है। वेडिंग प्लानर बताते हैं कि डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए अलग-अलग पैकेज उपलब्ध हैं। 30 से 50 लाख तक के पैकेज बुक हुए हैं। ताजमहल के साए में सात फेरे लेने के लिए शहर पसंदीदा जगह बनता जा रहा है। इस सीजन में 15 दिसंबर तक 5 हजार से ज्यादा शादियां होने का अनुमान है। शहर में करीब एक हजार डेस्टिनेशन वेडिंग होगी। देवउठनी एकादशी पर आगरा के सभी बड़े होटल पहले से बुक हो चुके हैं।

 

शाम को संभलकर निकलें शहर में
आगरा। हालांकि पुलिस ने कड़े इंतजाम किए हैं। कई पाबंदियां लगाई गई हैं, लेकिन फिर भी शादियां इतनी अधिक हैं कि सायंकाल बाद शहर में जाम की स्थिति पैदा हो सकता है।
फतेहाबाद रोड पर तमाम होटल और मैरिज होम्स हैं। यह सभी फुल हैं। तगड़े साहालग वाले दिनों में यहां जाम की समस्या विकराल रूप ले लेती है। इस कारण पुलिस ने यहां विशेष इंतजाम किए हैं। सायंकाल बारातों के यहां निकलने पर प्रतिबंध लगाया गया है। इसके बाद भी यहां जाम लग सकता है। बाईपास रोड पर कई मैरिज होम हैं। साइड रोड पर जाम की स्थिति रह सकती है। लोहामंडी, शाहगंज क्षेत्र में भी जाम लोगों को परेशान कर सकता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments