Tuesday, June 18, 2024
HomeUttar PradeshAgraमेट्रो रेल: अब थर्ड रेल प्रणाली पर काम होगा

मेट्रो रेल: अब थर्ड रेल प्रणाली पर काम होगा

– अंडर ग्राउंड ट्रैक बिछाने का काम शुरू हुआ,
– 750 वोल्ट डीसी के करंट पर चलेगी मेट्रो ट्रेन

आगरा। मेट्रो रेल कॉरपोरेशन अब तीसरे चरण का काम शुरू करने जा रहा है। इसके लिए प्रायोरिटी कॉरिडोर के अंडरग्राउंड में थर्ड रेल बिछाने का काम शुरू हो गया है। इस प्रणाली में पारंपरिक तौर पर प्रयोग होने वाली ओएचई (ओवर हेड इक्यूपमेंट) प्रणाली की जगह पर पटरियों के समानांतर एक तीसरी रेल (पटरी) का प्रयोग किया जाता है।
750 वोल्ट डीसी करंट पर चलने वाली आगरा मेट्रो ट्रेनें संचालन के लिए इसी थर्ड रेल का प्रयोग करेंगी। आगरा मेट्रो के 29.4 किमी लंबे दोनो कॉरिडोर एवं डिपो परिसर में थर्ड रेल बिछाई जाएगी। मेट्रो के 29.4 लंबे दो कॉरिडोर के लिए कुल तीन रिसीविंग सब स्टेशन (आरएसएस) का निर्माण किया जाना है। डिपो परिसर में पहला आरएसएस बनकर तैयार हो गया है। आईएसबीटी के पास ही दूसरे आरएसएस की बिल्डिंग का निर्माण किया जा रहा है। आगरा मेट्रो प्रायोरिटी कॉरिडोर के सभी तीनों अंडरग्राउंड स्टेशनों पर तेज गति के साथ फिनिशिंग कार्य किए जा रहे हैं।
मेट्रो ट्रेन के संचालन के लिए सबसे पहले ग्रिड से 132 केवी की सप्लाई ली जाएगी। इसके बाद रिसीविंग सब स्टेशन में लगे स्टेप डाउन ट्रांसफॉर्मर की मदद से 132 केवी की सप्लाई को 33 केवी में बदला जाएगा। मेट्रो ट्रेन के संचालन के लिए 33 केवी की सप्लाई को टीएसएस (ट्रेक्शन सब स्टेशन) में लगे ट्रेक्शन ट्रांसफॉर्मर की मदद से 750 वोल्ट डीसी में बदला जाएगा।
मैकेनिकल ब्रेकिंग प्रणाली में गाड़ी को रोकने के लिए ब्रेक शू का प्रयोग किया जाता है, इससे ब्रेक लगने के दौरान व्हील पर ब्रेक शू के रगड़ने से ऊष्मा (हीट एनर्जी) उत्पन्न होती है। आगरा मेट्रो ट्रेनों में रीजेनेरेटिव ब्रेकिंग प्रणाली का प्रयोग किया जाएगा। इस प्रणाली के जरिए इलेक्ट्रिक मोटर की मदद से ट्रेन को रोका जाएगा। इससे उत्पन्न होने वाली बिजली से ट्रेन के विभिन्न सिस्टम चलाए जाएंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments