Thursday, June 13, 2024
HomeUttar PradeshAgraसंप्रेक्षण गृह का औचक निरीक्षण में किशोरों ने बताया यहां का...

संप्रेक्षण गृह का औचक निरीक्षण में किशोरों ने बताया यहां का सच

स्टाफ की कमी, बच्चों से कराया जाता है यहां काम

आगरा। राजकीय संप्रेक्षण गृह में शेल्टर होम समिति के सदस्यों के सामने किशोरों ने व्यवस्थाओं की पोल खोल दी। किशोरों ने बताया कि स्टाफ की कमी के कारण उनसे काम कराया जाता है। उप्र प्रदेश राज्य विधिक प्राधिकरण लखनऊ के दिशा निर्देश पर निरीक्षण समिति ने राजकीय संप्रेक्षण गृह (महिला), राजकीय संप्रेषण गृह किशोर और बाल शिशु गृह का औचक निरीक्षण किया।
जनपद न्यायाधीश विवेक संगल के निर्देश पर आश्रय गृह निरीक्षण समिति की अध्यक्ष नसीमा खानम, कनिष्क सिंह अपर जिला जज, डॉक्टर दिव्यानंद द्विवेदी अपर जिला जज/सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुधा यादव व भव्या श्रीवास्तव, अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, आगरा द्वारा औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण समिति के द्वारा किशोरों के कक्ष का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान किशोरो के पलंग की तलाशी ली गई। किशोरों से पूछताछ की गई, जिसमें किशोर ने बताया कि स्टाफ की कमी के कारण काम कराया जाता है। इस बात की पुष्टि प्रभारी अधीक्षक ने की। जानकारी मिलते ही निर्देश दिए गए कि स्टाफ की कमी के लिए पत्र लिखें। किशोरों और कर्मचारियों की नियमित जांच के भी निर्देश दिए। समिति के द्वारा पाकशाला का निरीक्षण किया गया जिसमें पाकशाला में कार्य कर रहे रसोईया ने बताया कि मेन्यू के अनुसार ही किशोरों को भोजन दिया जाता है। भोजन की गुणवत्ता बरकरार रखने के लिए निर्देश दिए गए।
इस दौरान जनपद न्यायाधीश भी साथ रहे। समिति द्वारा किशोर संप्रेषण गृह (शिशु) सदर आगरा का भी औचक निरीक्षण किया गया। समिति ने मानसिक स्वास्थ्य संस्थान का भी औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त पाई गईं। समिति ने निर्देश दिए कि मरीजों को दिए जाने वाले भोजन और साफ- सफाई पर ध्यान दें। इस दौरान संस्थान के निदेशक डॉ. दिनेश राठौर, डॉ. अनिल कुमार आदि उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments