Sunday, June 23, 2024
HomeUttar PradeshAgraअयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा के दौरान कमला नगर में भव्य आयोजन

अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा के दौरान कमला नगर में भव्य आयोजन

6 दिसंबर, 1992 को श्रीराम चौक पर रखी थी राम मंदिर की नींव

आगरा। 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में ढहाए गए विवादित ढांचे के बाद कमला नगर में राम मंदिर की नींव रखी गई थी। कमलानगर में जय श्रीराम के नारों के बीच राम दरबार की स्थापना की गई थी। राम मंदिर चौक पर 22 जनवरी को भगवान श्री राम के अपने महल में पहुंचने की खुशी में पूरा क्षेत्र जगमगाएगा। आतिशबाजी होगी, भंडारा होगा और जोश होगा। कालोनी में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर खासा उत्साह है।
मंदिर के सामने रहने वाले लोग बताते हैं कि वो अलग ही माहौल था। चौक पर पुलिस के लिए घेरा बनाया गया था। सभी जोश में थे। जैसे ही अयोध्या में विवादित ढांचा ढहने की सूचना मिली, सभी चौक पर पहुंच गए और जय श्री राम के नारे लगाने लगे। आनन फानन में तय हुआ कि यहां भी भगवान श्री राम स्थापित होंगे। उस वक्त कर्फ्यू का माहौल था। तनाव का माहौल में घोषणा हुई थी कि 12 बजे पूजा होगी। राम दरबार के लिए मूर्तियां राजामंडी के एक दुकानदार ने दी थी। जिसके उसने पैसे भी नहीं लिए थे। बच्चों को जुलूस में लेकर चौक तक मूर्ति लेकर पहुंचे थे। उससे पहले यहां भगवान श्री राम की फोटो रखकर पूजा की गई थी। क्षेत्रीय निवासी संजय अग्रवाल के अनुसार बाद में इस मंदिर में तत्कालीन केंद्रीय मंत्री उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा भी दर्शन करने आईं थीं।
कमलानगर व्यापार संगठन समिति के अध्यक्ष अमित अग्रवाल के अनुसार 22 जनवरी को पूरे कमलानगर को दुल्हन की तरह सजाया जाएगा। जगह-जगह एलईडी लगाई जाएंगी, जिस पर प्राण प्रतिष्ठा का लाइव प्रसारण होगा। आतिशबाजी होगी, सुंदरकांड का पाठ होगा। भंडारे का भी आयोजन किया जाएगा।
पूर्व पार्षद दीपक ढल के अनुसार इस मंदिर को बनाने में पूर्व परिवहन मंत्री स्व. सत्यप्रकाश विकल, सुनील विकल, अनिल अग्रवाल, विपिन चौधरी, मनोज शर्मा, नंदी महाजन, प्रवीन जैन, अमित आर्य, विपिन चौधरी समेत कई लोगों ने सक्रियता दिखाई थी। उस समय की पार्षद स्व. बीना अग्रवाल का बहुत सहयोग था। पुलिस बूथ पर सबसे पहले रखी गई तस्वीर उनके घर से ही आई थी।
1992 से मंदिर में पूजा कर रहे पंडित प्रमोद सारस्वत बताते है कि इस मंदिर की बहुत मान्यता है। एक मंदिर अयोध्या में है, दूसरा आगरा में है। जब मंदिर निर्माण की घोषणा हुई थी, तब भी यहां उत्साह के साथ आयोजन किया गया था। अब 22 जनवरी को भी हम अपने श्री राम के स्वागत को तैयार हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments